बहुत ज्यादा काढ़ा क्‍यों दे सकता है नुकसान काढ़ा पीने के साइडइफेक्ट्स

by health,


Posted on 29-04-2021 by Admin


बहुत ज्यादा काढ़ा क्‍यों दे सकता है नुकसान काढ़ा पीने के साइडइफेक्ट्स

 बहुत ज्यादा काढ़ा क्‍यों दे सकता है नुकसान

काढ़ा बेशक aram dar है, लेकिन कुछ लोगों पर कोरोना का डर इतना हो गया है कि वो जब भी मौका मिलता है, अदरक, निमू, तुलसी का काढ़ा पीने के लिए तैयार रहते हैं। कोई भी चीज हद से ज्यादा इस्तेमाल हो जेसे अदरक, निमू, तुलसी का काढ़ा तो वो शरीर को नुकसान देने लगती है। काढ़ा बेशक बेहद फायदेमंद है, लेकिन उसका जरूरत से ज्यादा इस्तेमाल आपके पाचन को खराब और नुकसान कर सकता है। लोगों को दिन में दो बार काढ़ा पीने की सलाह दी है, लेकिन लोगों पर काढ़ा पीने की आदत इस कदर सवार हो गई है कि लोग जब भी ऑफिस में घर में जैसे भी मौका मिले, काढ़ा पीने लगते हैं

काढ़े का सेवन करते हैं तो उसके बारे में पूरी जानकारी भी हासिल करें। काढ़े में अदरक और काली मिर्च, तुलसी का उपयोग होता है, और अदरक का ज्यादा प्रयोग करने से सीने में जलन की शिकायत हो सकती है। काली मिर्च की तासीर भी गरम होती है। काढ़े में घी का प्रयोग कम मात्रा में करना चाहिए। घी के अधिक उपयोग से अपच, पेट फूलने की शिकायत हो सकती है। जिसका अधिक मात्रा में इस्तेमाल करने से हमारी शरीर में स्वास्थ्य संबंधी कई तरह की परेशानियां भी हो सकती हैं। इसलिए काढ़े में पड़े वाली चीजों का सीमित मात्रा में उपयोग करे ।

काढ़ा पीने के साइडइफेक्ट्स और नुकसान किया हो सकते है  (side effects of Kadha)

यदि आप रोज काढ़े का सेवन कर रहे हैं और आपकी नाक से खून आ रहा है, मुंह में छाले हो रहे हैं, पाचन सिस्टम दुरुस्त नहीं है। तो आप समझ जाइए ये सब परेशानियां काढ़े के अधिक सेवन की वजह से पनप रही है।

दिन में एक बार में कितनी मात्रा में करें काढ़ा का सेवन (Right amount of Kadha)

काढ़े का सेवन 50 मि.ली से ज्यादा नहीं करना चाहिए। आप काढ़ा बनाने के लिए 100 मिलीलीटर पानी water में सभी सामग्री तुलसी नमक को मिलाएं और इसे 50 मिली.लीटर होने तक उबलने दें। और उसे थोड़ा small पकने दे । लेकिन आप इस बात का ध्यान रखें कि आपको इससे अधिक more मात्रा में नहीं पीना है।

काढ़ा खांसी को खत्म finish करता है,और कफ बलगम से परेशान problem लोगों को ठीक करने लिए काफी मददगार साबित होता है ।

काढ़े की तासीर गर्म hot होती है और इसे बहुत large water ज्यादा पीने की वजह से मुंह और पेट में छाले (Mouth and stomach ulcer) की समस्या हो सकती है.

- दालचीनी, गिलोय, काली मिर्च जैसी चीजों product item के ओवरडोज की वजह से पेट में दर्द pain, सीने में जलन (Heartburn) या एसिडिटी (Acidity) जैसी दिक्कतें हो सकती हैं.


Enter More Update:
Related Post
एनटीटी कोर्स कहां से करें. NTT कोर्स के लिए कौन सा कॉलेज इंस्टीट्यूट यूनिवर्सिटी मानता प्राप्त है.
19 january ka itihas 19 जनवरी की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ Historical Events and Holidays
विदेश में पढ़ने के लिए सरकारी छात्रवृत्ति कैसे प्राप्त करें government scholarship
RRB NTPC And Group D Exam Date 2020 भर्ती परीक्षाओं का अपडेट जारी Latest Schedule
पंजाब एनटीटी परीक्षा नर्सरी प्री नर्सरी ट्रेनिंग सैंपल पेपर्स एनटीटी पिछला वर्ष प्रश्न पत्र
एनसीपीसीआर ने कोविड-19 से प्रभावित बच्चों के लिए ऑनलाइन पोर्टल बाल स्वराज तैयार किया
हैंडमेड किड्स वियर का बिजनेस केसे शुरू कर सकते है मार्केटिंग केसे करे कहा पर अपना प्रोडक्ट सैल कर सकते है
9 january ka itihas 9 जनवरी इतिहास में महत्वपूर्ण घटनाएं Important Events History
inspirational motivational quotes for employees business owners in hind
बचत खाते में मिनिमम बैलेंस सेट कैसे रखे मिनिमम बैलेंस न रखने पर बैंक कैसे जुरमाना लेता है