एक्वापोनिक्स बनाम हाइड्रोपोनिक्स बनाम एरोपोनिक्स Farming kon si best hai

by agriculture, business news, business,


Posted on 15-07-2021 by Admin


एक्वापोनिक्स बनाम हाइड्रोपोनिक्स बनाम एरोपोनिक्स Farming kon si best hai

महाराष्ट्र का पश्चिमी क्षेत्र राज्य के चीनी के कटोरे के रूप में प्रसिद्ध है। इस पेटी में स्थित कोल्हापुर जिला अपने गुड़, जूतों और पर्यटकों के आकर्षण के लिए भी प्रसिद्ध है। लेकिन यह क्षेत्र जल्द ही जैविक विदेशी सब्जियां उगाने के लिए भी लोकप्रिय हो सकता है।

इसके पीछे का कारण एक्वापोनिक और हाइड्रोपोनिक फार्म हैं जो विदेशी सब्जियां उगाने के लिए 50 एकड़ भूमि के एक छोटे से हिस्से में उग आए हैं।

केल, लेट्यूस, पाक चोई, मशरूम और अन्य सब्जियों जैसे विदेशी पौधों की लगभग 40 किस्में यहां उगाई जाती हैं और भारत के अन्य शहरों में भेजी जाती हैं।

दिलचस्प बात यह है कि यह मूल निवासी नहीं हैं जिन्होंने फसल पैटर्न को बदला है, बल्कि IIT-बॉम्बे के पूर्व छात्र जिनकी खेती की पृष्ठभूमि नहीं है। पहल को लैंडक्राफ्ट एग्रो कहा जाता है। landcraftagro.com

एक्वापोनिक्स बनाम हाइड्रोपोनिक्स बनाम एरोपोनिक्स aquaponics vs hydroponics vs aeroponics

एक्वापोनिक्स (Aquaponics) पारिस्थितिकी रूप से एक स्थायी मॉडल है जो एक्वाकल्चर (Aquaculture) के साथ हाइड्रोपोनिक्स (Hydroponics) को जोड़ता है।

एक्वापोनिक्स में एक ही पारिस्थितिकी-तंत्र में मछलियाँ और पौधे plant साथ-साथ वृद्धि कर सकते हैं।

Hydroponics

हाइड्रोपोनिक्स में पौधे मिट्टी soil के बिना वृद्धि करते हैं जहाँ मिट्टी soil को पानी water द्वारा प्रतिस्थापित किया जाता है।

About landcraftagro

IIT में इंजीनियरिंग की पढ़ाई के दौरान मयंक गुप्ता और ललित झावर दोस्त बन गए। मयंक ने ज़िलिंगो नामक एक स्टार्ट-अप लॉन्च किया और 2012 से 2018 के बीच दक्षिण पूर्व एशिया की यात्रा की, जबकि ललित 2011 में कपड़ा और रियल एस्टेट उद्योग में अपने पारिवारिक व्यवसाय में शामिल हो गए।

Landcraft agro hatkanangale Address and contact us phone number

Landcraft agro hatkanangale in Kolhapur, Maharashtra, India 

For all contract farming and farm visit enquiries please contact us via:

Email: [email protected]

एक्वापोनिक्स से उच्च पैदावार (20-25% अधिक) जेदा और गुणात्मक उत्पादन हो  सकती है ।

एस तरीके से खेती आप जैसे मरुस्थलीय, लवणीय, रेतीली, बर्फीली भूमि का उपयोग किया जा सकता है। इस में पानी की जरुरत कम होते है . इस में आप जेदा हरी पतिया  पौधों की खेती जेदा कर सकते हो आप को कम खेत की जरुरत होती है 

पौधों और मछलियों दोनों का उपयोग एक साथ किया जा सकता है।

एक्वापोनिक्स की खामियाँ:

मृदा उत्पादन अथवा हाइड्रोपोनिक्स की तुलना में आरंभिक लागत बहुत महँगी है।

मछली, बैक्टीरिया और पौधों की जानकारी आवश्यक है।

इस में जेदा पासे जी जरुरत होती है . आप को सारा फार्म कवर करना होता है की आप तापमान मेन्टेन कर सको 

बिजली की जरुरत जेदा होती है 

आप को मछली को सेफ रखने की लिये प्लान को मेन्टेन रखना होगा

देखभाल जेदा रखनी होगी

 


Enter More Update: